Geeta Saar | भागवद् गीता का पूरा सार | गीता के उपदेश | क्यों व्यर्थ चिन्ता करते हो?

Geeta Saar | भागवद् गीता का पूरा सार | गीता के उपदेश | क्यों व्यर्थ चिन्ता करते हो?

गीता के उपदेश भागवद् गीता का पूरा सार 10 मिनट में

” खाली हाथ आये थे और खाली हाथ चले जाओगे । जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। इसीलिए, जो कुछ भी तुम करते हो , उसे भगवान के अर्पण करते चलो । “

गीता सार:

  1. क्यों व्यर्थ चिन्ता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? कौन तुम्हें मार सकता है? आत्मा न पैदा होती है, न मरती है।
  2. जो हुआ, वह अच्छा हुआ। जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है। जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप न करो। भविष्य की चिन्ता न करो। वर्तमान चल रहा है।
  3. तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाये थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो नाश हो गया? न तुम कुछ लेकर आए, जो लिया यहीं से लिया। जो दिया, यहीं पर दिया। जो लिया, इसी (भगवान) से लिया। जो दिया, इसी को दिया। खाली हाथ आये, खाली हाथ चले। जो आज तुम्हारा है, कल किसी और का था, परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपना समझकर मग्न हो रहे हो। बस, यही प्रसन्नता तुम्हारे दुखों का कारण है।
  4. परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स्वामी बन जाते हो, दूसरे ही क्षण तुम दरिद्र हो जाते हो। मेरा-तेरा, छोटा-बड़ा, अपना-पराया मन से मिटा दो, विचार से हटा दो। फिर सब तुम्हारा है, तुम सबके हो।
  5. न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम इस शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से बना है और इसी में मिल जाएगा। परन्तु आत्मा स्थिर है, फिर तुम क्या हो?
  6. तुम अपने आप को भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है। जो इसके सहारे को जानता है, वह भय, चिन्ता, शोक से सर्वदा मुक्त है।
  7. जो कुछ भी तुम करते हो, उसे भगवान को अर्पण करते चलो। ऐसा करने से तुम सदा जीवन-मुक्ति का आनन्द अनुभव करोगे।

गीता सार का हमारे जीवन पर बहुत बड़ा महत्त्व है इसे पढ़ने न केवल हमारे जीवन पर बल्कि हमारे दिमाग पर भी गहरा प्रभाव देखने को मिलता है तो अपने एक बार गीता सार जरूर पढ़ना चाहिए

Quotes For Happiness – खुशी का ऐसा एहसास है, जिसकी हर किसी को तलास है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 12 =